Understanding the Janlokpal using Fire v/s Pot Analogy

7
524
twitter.com

By Rakesh Manchanda

Once, a pot asked the potter, “If you love me then why did you throw me in the fire?”

The potter replied, My real love for you (Pot) lies in baking you so that you become strong enough for a long and healthy life.”

pottery

The pots that escape the fire treatment don’t last long. Fire is a gift that strengthens it. To understand the current political scenario, replace fire with people’s anger against Corruption in India, and you shall see the dream behind Jan Lokpal-2014.

When Anna Hazare sat in the Ramlila Maidan, his clarion call awoke lakhs of people across the country from a deep slumber. The venue saw close to 13 versions of the Janlokpal Bill being revised and finalized. All this was taking place on the streets and Ramlila Maidan, and not in the all-powerful Parliament.

To recall those 12 days where India stood up against corruption with hand in hand, you can read ‘Twelve days of August Kranti-2011 that shook India’.

Just as the fire plays a significant role in the making of the pot, people’s anger with regards to such a critical legislation must be channeled constructively and peacefully.

“If you fight fire with fire, you may end up with ashes.”

E. Carter

The manner in which thousands of protesters combated the heat of Delhi at Jantar Mantar for several days is akin to the pots being baked in the sunlight. While the pots bake, nursing of fire is a time bound skill full of patience. Monitoring the directions and strength of the fire needs a careful investment of energy and time from a few stakeholders.

The journey from mud to an artistic pot is made possible with the help of alert eyes & hands. The craft now is ready for a Promotion and Purchase.

In order to draft a law that signifies people’s aspirations and sentiments, a people’s movement under the banner of ‘India Against Corruption’ decided to break the old tradition and tried to come up with a draft legislation using people`s consent. Thousands of professionals left their job to contribute to the cause. Elected powerful law makers were brought down to listen via a people`s movement.

IAC-Protesters

Five Wise Men ‘Panchayat’ was formed in the Ramlila Maidan to guide and draft Lokpal bill based on People’s input. Soon after, the First Wise Man, Arvind Kejriwal, ditched this group of five on the grounds of ‘entering the system to clean it’.

swaraj abhiyan

Can this fire-filled journey turn a mud into a valuable earthy pot?

A dream was born in Ramlila Maidan. The dream of a Corruption free India emerged. This dream was given the shape of a draft which was named Janlokpal Bill. People slogged day and night.

Lakhs of people agitated on the streets demanding that Central Government turn the Janlokpal draft into a law. When the government turned a deaf ear and challenged the activists to come to power and implement the JanLokpal bill, a Political Party was born out of this Movement -the Aam Aadmi Party. People of Delhi gave all their support and love to the Party that was formed on the promise of Jan Lokpal law.

Soon after, Arvind Kejriwal took oath as the Chief Minister of Delhi.

In 2014, when Mr. Kejriwal was stopped from tabling and passing the Janlokpal Bill, he resigned as the CM. He stated that he can and will sacrifice hundreds of such posts for this people`s bill.

Then why a ‘Nakli’- Fake Janlokpal now in 2015?

As soon as Kejriwal became CM, the JanLokpal, for which he was ready to sacrifice the CM`s post hundred times, was completely changed after a deliberate excuse and a delay. Several clauses and provisions that made JanLokpal independent and strong were removed. All the promises that he himself had made at the Ramleela Maidan were broken.

 Back to basics of Pot sport Culture

‘Dahi Handi’ Breaking is a highly popular and auspicious tradition in India. It needs skillful players and the cheering people`s support for success. On the passing of Arvind Kejriwal`s revised Lokpal Bill-2015, a section of AAP supporters distributed sweets and danced.

dahi handi

See three attached videos and decide. Who are the mischievous Pot Breaker and a rubble mud rouser?

Video of Santosh Hegde on 2015 Delhi Janlokpal Bill

Video of Google Hangout with Prashant Bhushan on 2015 Delhi Janlokpal Bill

Video of Anna demanding 2014 JanLokpal Bill

It is a common thing for the Political Parties to promise the moon during elections but never fulfill it after coming to power. Victims of politics use ‘fire jokes’ to showcase the situation of the needy. Unfortunately, by introducing this kind of broken & toothless JanLokPal Bill, Aam

Aadmi Party is murdering the old dream of a strong Janlokpal which would have curbed corruption, the dream for which millions of patriots had aspired and struggled. 

Broken Pot Breaks the Bluff

Broken Pot = Leaking Lokpal =Valuable False Ornament for AAP Voters by Selected Expensive Salesmen. Today, once again, lie, deceit and power are dwelling in palaces while truth is alive on the streets. We all know that truth can be blocked for a period, but never defeated.

pot

Prashant Bhushan of the Swaraj Abhiyan puts it simply – “Soldiers of Janlokpal Movement will again have to come together for fight against Corruption. Once again we will have to light this torch and march ahead.”

  • Tarak Goradia

    I am apalled. This entire article appeals to emotions, not logic. The superlative exaggerations used in this article are nauseating. This reminds me of Goenka ji’s words about various kinds of attachments. In this case, the attachment to “our original ideology” is so overpowering that any and all evoluntionary forces are considered evil, so much so that the original objective of the anti-corruption movement appears to have been lost or have become secondary. Most of the non-BJP IAC troops are aligned with spreading people-centric, corruption-free governance in India. The Delhi Government is doing an incredible job at that. If this narrative fails to recognize or appreciate that … I don’t know what to say. Good luck with creating a separate fight against corruption!
    Whatever you do, please make sure not to include people like Shanti Bhushan who defends Jaitley in DDCA case, or Prashant Bhushan who said that corruption in Delhi departments reporting to Center cannot be investigated by Delhi government [even if it impacts Delhi people’s daily lives!] That would definitely be against the intent of anti-corruption movement!

  • Sarbajit Roy

    India Against Corruption is firmly AGAINST any Lokpal / Ombudman like was proposed in 2011-12. IAC believes that Lokpal demand was a World Bank trojan horse to destabilise India and persons like Kejriwal, Bedi, Agnivesh, Sri Sri, Ramdev etc who moved this request are foreign funded stooges,and that IAC’s name was misused for this purpose and all of you were misled by these foreign influenced Pied Pipers.

    However, we look forward to Aam Aadmi Party showing us the way by having genuine transparency in their internal affairs like credible “Internal Lokpal”, implementation of RTI etc (But we seriously doubt that they will do it)

  • Taru Chintan

    Mind blowing article. Why the people of India always feel cheated after giving mandate to a political party? When will we success in electing people who are real heroes in the society?

  • Dhruba Mukherjee

    गद्दारी मत करो

    अफसोस की बात ये है कि राज नेता समझते ही नहीं !

    जिस कुर्सी पे बैठे हो उस कुर्सी से गद्दारी मत करो!!

    पहले दल नहीं पहले देश है, ये कब समझोगे तुम !

    जिस देश ने तुम्हे खिलाया है, उस देश से गद्दारी मत करो !!

    आखिर कब तक वोट बेंक का खेल खेलते रहोगे !

    जिस आवाम के वोट से जीते हो, उस आवाम से गद्दारी मत करो !!

    जिस देश के लोगों ने तुम्हें बनाया है एमपी,एमलए और मंत्री !

    कम से कम उस देश के लोगों से तुम गद्दारी मत करो !!

    तुम तो विधानसभा और पार्लियामेंट में बैठे रहते हो !

    जो सैनिक तुम्हें सुरक्षा देतें हैं, उन सैनिकों से गद्दारी मत करो !!

    हमेशा यही होता है, तुम बच जाते हो, सैनिक शहीद हो जाता है !

    जो लोग जान हथेली में रख कर तुम्हें बचाते हैं,उनसे गद्दारी मत करो!!

    सैनिक तो शहीद हो जाते हैं, तुम तो कभी नहीं होगे !

    जो तुम्हें बचाने के लिए शहीद होते हैं, उनसे गद्दारी मत करो !!

    अगर सचमुच देश भक्त हो तुम तो बेटे को आर्मी में भेजो !

    आर्मी में जो जाता है वो मरने के लिए जाता है ये कहकर आर्मी से गद्दारी मत करो !!

    कठिन परिश्रम कर के एक आइएएस बनता है जो तुम्हें सलाह देता है !

    उसी का बॉस बन के उसे डांट के उससे गद्दारी मत करो !!

    तुम तो आठवीं पास होकर, वित्त मंत्री बन जाते हो !

    जो कुशल है तुम से कहीं ज़्यादा, उससे गद्दारी मत करो !!

    तुम तो अपना टूर बनाते हो, विदेश जाते हो मंत्री बनकर !

    जो तुम्हें लिख के देता है, क्या कहना है क्या करना है, उससे गद्दारी मत करो !!

    क्यों की जो वो लिखता है, वो ही तुम कहते हो !

    इसलिए मेरे भाई, इस देश के आवाम से गद्दारी मत करो !!

    कब तक हमें बोलते रहोगे हम गैस की सब्सिडी छोड़ दें !

    कम से कम अपने आप से तो गद्दारी मत करो !!

    तुम भी तो बीस रूपिए में खाना खाते हो पार्लियामेंट में !

    कम से कम इस देश के गरीबों से तो गद्दारी मत करो !!

    सरकारी स्कूल का फीता काटते हो तुम, भोजन का गॅरेंटी देते हो !

    कम से कम इंसान बनो, गरीब बच्चों से गद्दारी मत करो !!

    आखिर क्यों नहीं समझते हो यही बच्चे देश के भविष्य हैं !

    चाहे कितना भी गिर जाओ तुम पर इस देश के भविष्य से गद्दारी मत करो !!

    कुछ तो आंदोलन से नेता बनें जो अलग राजनीति करेंगे !

    उनसे कहूँगा भाई साहब, दिल्ली वालों से गद्दारी मत करो !!

    जन लोकपाल लाओगे कहकर छोड़ दिया था तुमने सत्ता !

    अब उसी सत्ता में बैठ कर तुम जन लोकपाल से गद्दारी मत करो !!

    अब तो लगता है ‘आप’ भी आम नेता जैसे बन गये !

    जिन लोगों ने आप को लेकर आए थे, उन लोगों से गद्दारी मत करो !!

    जो भरोसा आप ने जनता और अन्ना को दिया था !

    कम से कम खुदा के वास्ते उस भरोसा से गद्दारी मत करो !!

    देश सेवा करने के लिए नेता बनना ज़रूरी नहीं !

    सेक्युलर सेक्युलर चिल्लाते हो, सेकुलरिसम् से गद्दारी मत करो !!

    ‘गर भला चाहते हो देश का तो ईमानदारों को आगे लाओ !

    पार्टी में टिकट देते वक्त, ईमानदारों से गद्दारी मत करो !!

    गोमांस और राम मंदिर को लेकर क्यों झगड़ा लगवाते हो तुम !

    गरीबी हटाओ कहकर उन गरीबों से गद्दारी मत करो !!

    अब बहुत हो चुका है ‘ध्रुव’ कहता है अमन चैन चाहिए !

    ये दंगे और लोगों को आपस में भिड़ा कर इस आवाम से गद्दारी मत करो !!

    Kumar Dhruv

    natpubindia@rediffmail.com

    9009990322

  • Taru Chintan

    अपने समाज में मैंने सुना है, कि जब तक सफलता न मिले तब तक कोशिश करते रहो, गलत का विरोध करो और अन्याय का मुकाबला करना चाहिए, तो फिर जनलोकपाल जो एक अच्छी सोच से निकला था उसे समाज में स्थापित करने की कोशिश क्यों नहीं होनी चाहिए? जो लोग अच्छी बात का विरोध करते हैं, वे कहीं न कहीं बीमार दिखाई पड़ते हैं. सच को सच कहने में अनेक परेशानियां आती हैं, पर सच को कभी झुठलाया नहीं जा सकता है. जनलोकपाल हो या कुछ ओर पर होना तो चाहिए, और इसे लाने वाले भी अनेकों सिपाही मिल जायेंगे, बस आगे चलने वाला चाहिए.

  • Taru Chintan

    अपने समाज में मैंने सुना है, कि जब तक सफलता न मिले तब तक कोशिश करते रहो, गलत का विरोध करो और अन्याय का मुकाबला करना चाहिए, तो फिर जनलोकपाल जो एक अच्छी सोच से निकला था उसे समाज में स्थापित करने की कोशिश क्यों नहीं होनी चाहिए? जो लोग अच्छी बात का विरोध करते हैं, वे कहीं न कहीं बीमार दिखाई पड़ते हैं. सच को सच कहने में अनेक परेशानियां आती हैं, पर सच को कभी झुठलाया नहीं जा सकता है. जनलोकपाल हो या कुछ ओर पर होना तो चाहिए, और इसे लाने वाले भी अनेकों सिपाही मिल जायेंगे, बस आगे चलने वाला चाहिए.
    एक बात मैं ऊपर लिखना भूल गया कि जब भी कोई अच्छा काम शुरू किया जाता है, तो उसमे रोड़ा अटकाने वाले बहुत से लोग आ जाते हैं. कुछ लोग तो आपसे दिल तक घुल मिल जाते हैं, और क्लाइमेक्स पर धोखा देकर सारा काम तमाम कर देते हैं. ऐसे लोगों से सावधानी रखने कि जुगत सीखनी होगी, जो हर आदमी के बस कि बात नहीं है. लकिन कुछ तो बनाना होगा, जो लोकपाल या लोकपाल जैसा ही कुछ हो, ताकि समाज में ईमानदार और भोले लोगों को भी स्थान मिल सके.

  • Rakesh Manchanda

    Thanks Tarak Goradia for sharing your views.It will be wiser to reach the vibrations inside AAP to understand what went wrong rather then manufacturing excuses outside based on blame to others.Process based on people`s inputs in Anna Movement was cheated by crusader turned compromiser -Arvind Kejriwal.

    Delhi Lokpal-2015 & the new team behind the corruption free Delhi appears efficient to do some ornamental `make up` but it fails to be effective to carry forward the promised original transparency to millions.

    Allow me to help you to clear the communication via revisiting few more articles as follows:

    Which Star Rocks & Connects Public Out of Trouble?
    http://beyondheadlines.in/2015/12/which-star-rocks-connects-public-out-of-trouble/

    Taj Mahal -A Parallel to AAP`Original` Modern builders on Democracy?

    http://beyondheadlines.in/2015/03/taj-mahal-a-parallel-to-aaporiginal-modern-builders-on-democracy/

Previous articleIAF’s Rafale Deal with France: India confirms order
Next articleAbducted Pathankot SP questioned by NIA
  • Tarak Goradia

    I am apalled. This entire article appeals to emotions, not logic. The superlative exaggerations used in this article are nauseating. This reminds me of Goenka ji’s words about various kinds of attachments. In this case, the attachment to “our original ideology” is so overpowering that any and all evoluntionary forces are considered evil, so much so that the original objective of the anti-corruption movement appears to have been lost or have become secondary. Most of the non-BJP IAC troops are aligned with spreading people-centric, corruption-free governance in India. The Delhi Government is doing an incredible job at that. If this narrative fails to recognize or appreciate that … I don’t know what to say. Good luck with creating a separate fight against corruption!
    Whatever you do, please make sure not to include people like Shanti Bhushan who defends Jaitley in DDCA case, or Prashant Bhushan who said that corruption in Delhi departments reporting to Center cannot be investigated by Delhi government [even if it impacts Delhi people’s daily lives!] That would definitely be against the intent of anti-corruption movement!

  • Sarbajit Roy

    India Against Corruption is firmly AGAINST any Lokpal / Ombudman like was proposed in 2011-12. IAC believes that Lokpal demand was a World Bank trojan horse to destabilise India and persons like Kejriwal, Bedi, Agnivesh, Sri Sri, Ramdev etc who moved this request are foreign funded stooges,and that IAC’s name was misused for this purpose and all of you were misled by these foreign influenced Pied Pipers.

    However, we look forward to Aam Aadmi Party showing us the way by having genuine transparency in their internal affairs like credible “Internal Lokpal”, implementation of RTI etc (But we seriously doubt that they will do it)

  • Taru Chintan

    Mind blowing article. Why the people of India always feel cheated after giving mandate to a political party? When will we success in electing people who are real heroes in the society?

  • Dhruba Mukherjee

    गद्दारी मत करो

    अफसोस की बात ये है कि राज नेता समझते ही नहीं !

    जिस कुर्सी पे बैठे हो उस कुर्सी से गद्दारी मत करो!!

    पहले दल नहीं पहले देश है, ये कब समझोगे तुम !

    जिस देश ने तुम्हे खिलाया है, उस देश से गद्दारी मत करो !!

    आखिर कब तक वोट बेंक का खेल खेलते रहोगे !

    जिस आवाम के वोट से जीते हो, उस आवाम से गद्दारी मत करो !!

    जिस देश के लोगों ने तुम्हें बनाया है एमपी,एमलए और मंत्री !

    कम से कम उस देश के लोगों से तुम गद्दारी मत करो !!

    तुम तो विधानसभा और पार्लियामेंट में बैठे रहते हो !

    जो सैनिक तुम्हें सुरक्षा देतें हैं, उन सैनिकों से गद्दारी मत करो !!

    हमेशा यही होता है, तुम बच जाते हो, सैनिक शहीद हो जाता है !

    जो लोग जान हथेली में रख कर तुम्हें बचाते हैं,उनसे गद्दारी मत करो!!

    सैनिक तो शहीद हो जाते हैं, तुम तो कभी नहीं होगे !

    जो तुम्हें बचाने के लिए शहीद होते हैं, उनसे गद्दारी मत करो !!

    अगर सचमुच देश भक्त हो तुम तो बेटे को आर्मी में भेजो !

    आर्मी में जो जाता है वो मरने के लिए जाता है ये कहकर आर्मी से गद्दारी मत करो !!

    कठिन परिश्रम कर के एक आइएएस बनता है जो तुम्हें सलाह देता है !

    उसी का बॉस बन के उसे डांट के उससे गद्दारी मत करो !!

    तुम तो आठवीं पास होकर, वित्त मंत्री बन जाते हो !

    जो कुशल है तुम से कहीं ज़्यादा, उससे गद्दारी मत करो !!

    तुम तो अपना टूर बनाते हो, विदेश जाते हो मंत्री बनकर !

    जो तुम्हें लिख के देता है, क्या कहना है क्या करना है, उससे गद्दारी मत करो !!

    क्यों की जो वो लिखता है, वो ही तुम कहते हो !

    इसलिए मेरे भाई, इस देश के आवाम से गद्दारी मत करो !!

    कब तक हमें बोलते रहोगे हम गैस की सब्सिडी छोड़ दें !

    कम से कम अपने आप से तो गद्दारी मत करो !!

    तुम भी तो बीस रूपिए में खाना खाते हो पार्लियामेंट में !

    कम से कम इस देश के गरीबों से तो गद्दारी मत करो !!

    सरकारी स्कूल का फीता काटते हो तुम, भोजन का गॅरेंटी देते हो !

    कम से कम इंसान बनो, गरीब बच्चों से गद्दारी मत करो !!

    आखिर क्यों नहीं समझते हो यही बच्चे देश के भविष्य हैं !

    चाहे कितना भी गिर जाओ तुम पर इस देश के भविष्य से गद्दारी मत करो !!

    कुछ तो आंदोलन से नेता बनें जो अलग राजनीति करेंगे !

    उनसे कहूँगा भाई साहब, दिल्ली वालों से गद्दारी मत करो !!

    जन लोकपाल लाओगे कहकर छोड़ दिया था तुमने सत्ता !

    अब उसी सत्ता में बैठ कर तुम जन लोकपाल से गद्दारी मत करो !!

    अब तो लगता है ‘आप’ भी आम नेता जैसे बन गये !

    जिन लोगों ने आप को लेकर आए थे, उन लोगों से गद्दारी मत करो !!

    जो भरोसा आप ने जनता और अन्ना को दिया था !

    कम से कम खुदा के वास्ते उस भरोसा से गद्दारी मत करो !!

    देश सेवा करने के लिए नेता बनना ज़रूरी नहीं !

    सेक्युलर सेक्युलर चिल्लाते हो, सेकुलरिसम् से गद्दारी मत करो !!

    ‘गर भला चाहते हो देश का तो ईमानदारों को आगे लाओ !

    पार्टी में टिकट देते वक्त, ईमानदारों से गद्दारी मत करो !!

    गोमांस और राम मंदिर को लेकर क्यों झगड़ा लगवाते हो तुम !

    गरीबी हटाओ कहकर उन गरीबों से गद्दारी मत करो !!

    अब बहुत हो चुका है ‘ध्रुव’ कहता है अमन चैन चाहिए !

    ये दंगे और लोगों को आपस में भिड़ा कर इस आवाम से गद्दारी मत करो !!

    Kumar Dhruv

    natpubindia@rediffmail.com

    9009990322

  • Taru Chintan

    अपने समाज में मैंने सुना है, कि जब तक सफलता न मिले तब तक कोशिश करते रहो, गलत का विरोध करो और अन्याय का मुकाबला करना चाहिए, तो फिर जनलोकपाल जो एक अच्छी सोच से निकला था उसे समाज में स्थापित करने की कोशिश क्यों नहीं होनी चाहिए? जो लोग अच्छी बात का विरोध करते हैं, वे कहीं न कहीं बीमार दिखाई पड़ते हैं. सच को सच कहने में अनेक परेशानियां आती हैं, पर सच को कभी झुठलाया नहीं जा सकता है. जनलोकपाल हो या कुछ ओर पर होना तो चाहिए, और इसे लाने वाले भी अनेकों सिपाही मिल जायेंगे, बस आगे चलने वाला चाहिए.

  • Taru Chintan

    अपने समाज में मैंने सुना है, कि जब तक सफलता न मिले तब तक कोशिश करते रहो, गलत का विरोध करो और अन्याय का मुकाबला करना चाहिए, तो फिर जनलोकपाल जो एक अच्छी सोच से निकला था उसे समाज में स्थापित करने की कोशिश क्यों नहीं होनी चाहिए? जो लोग अच्छी बात का विरोध करते हैं, वे कहीं न कहीं बीमार दिखाई पड़ते हैं. सच को सच कहने में अनेक परेशानियां आती हैं, पर सच को कभी झुठलाया नहीं जा सकता है. जनलोकपाल हो या कुछ ओर पर होना तो चाहिए, और इसे लाने वाले भी अनेकों सिपाही मिल जायेंगे, बस आगे चलने वाला चाहिए.
    एक बात मैं ऊपर लिखना भूल गया कि जब भी कोई अच्छा काम शुरू किया जाता है, तो उसमे रोड़ा अटकाने वाले बहुत से लोग आ जाते हैं. कुछ लोग तो आपसे दिल तक घुल मिल जाते हैं, और क्लाइमेक्स पर धोखा देकर सारा काम तमाम कर देते हैं. ऐसे लोगों से सावधानी रखने कि जुगत सीखनी होगी, जो हर आदमी के बस कि बात नहीं है. लकिन कुछ तो बनाना होगा, जो लोकपाल या लोकपाल जैसा ही कुछ हो, ताकि समाज में ईमानदार और भोले लोगों को भी स्थान मिल सके.

  • Rakesh Manchanda

    Thanks Tarak Goradia for sharing your views.It will be wiser to reach the vibrations inside AAP to understand what went wrong rather then manufacturing excuses outside based on blame to others.Process based on people`s inputs in Anna Movement was cheated by crusader turned compromiser -Arvind Kejriwal.

    Delhi Lokpal-2015 & the new team behind the corruption free Delhi appears efficient to do some ornamental `make up` but it fails to be effective to carry forward the promised original transparency to millions.

    Allow me to help you to clear the communication via revisiting few more articles as follows:

    Which Star Rocks & Connects Public Out of Trouble?
    http://beyondheadlines.in/2015/12/which-star-rocks-connects-public-out-of-trouble/

    Taj Mahal -A Parallel to AAP`Original` Modern builders on Democracy?

    http://beyondheadlines.in/2015/03/taj-mahal-a-parallel-to-aaporiginal-modern-builders-on-democracy/